Friday, 30 December 2016

नोटबंदी पर बीसीजी का सर्वे, ग्रामीण इलाकों पर ज्यादा असर

Get Two Days Free Trial from here and work with us click herehttp://www.ripplesadvisory.com

बीसीजी ने नोटबंदी पर एक सर्वे कराया है। बीसीजी के सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक नोटबंदी का शहरों के मुकाबले ग्रामीण इलाकों पर ज्यादा असर हुआ है। टियर 3 और 4 शहरों पर गहरा असर देखने को मिला है। पूर्व और उत्तर भारत के राज्यों में ज्यादा दिक्कत हुई है। नकदी का इस्तेमाल अधिक करने वाले सेक्टर पर ज्यादा असर हुआ है, जबकि संगठित क्षेत्र के कारोबारियों पर असर कम हुआ है।

बीसीजी के सर्वे में ये भी बात सामने आई है कि नोटबंदी का बड़े कारोबारियों पर ज्यादा असर नहीं हुआ है, और स्थायी कर्मचारियों पर भी असर नहीं हुआ है। हालांकि कॉन्ट्रेक्ट लेबर की कई जगह छंटनी देखने को मिली है। कुछ कंपनियों ने प्रोडक्शन घटाया है, लेकिन प्रोडक्शन में कटौती लंबी चलाने का इरादा नहीं है। नोटबंदी के चलते डीलरों ने स्टॉक घटाया है और उनका पेमेंट फंस गया है। पैकेज्ड फूड, कपड़े, मोबाइल और रेस्त्रां कारोबार तकरीबन सामान्य रहे हैं। हालांकि ट्रक, सीमेंट और रियल एस्टेट में अभी सुधार नहीं हुआ है।

बीसीजी के चेयरमैन (एशिया पैसिफिक), जन्मेजय सिन्हा का कहना है कि नोटबंदी के असर पर टिप्पणी करना अभी जल्दबाजी होगी, लेकिन नवंबर में मांग पर असर पड़ा है और दिसंबर में मांग में सुधार हुआ है। बड़े-छोटे शहरों में असर अलग-अलग देखने को मिला है। असंगठित क्षेत्र पर नोटबंदी का ज्यादा असर हुआ, लेकिन संगठित कारोबारियों पर असर कम हुआ है।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.